CBI द्वारा गिरफ्तारी के डर से, सुशांत सिंह राजपूत की बहनों ने किया बॉम्बे HC से जल्द सुनवाई का अनुरोध

दिवंगत अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की बहनें – प्रियंका और मीतू सिंह – जिन्हें रिया चक्रवर्ती द्वारा एक FIR में नामित किया गया है, ने गिरफ्तारी की आशंका के साथ उनकी याचिका की जल्द सुनवाई के लिए बॉम्बे हाईकोर्ट से अनुरोध किया है।

इंडिया टुडे के अनुसार, जस्टिस एसएस शिंदे और एमएस कार्निख की बेंच ने 4 नवंबर को प्रियंका और मीतू सिंह की याचिका पर सुनवाई को स्थगित किया गया। सुशांत की बहनों ने अपने खिलाफ रिया की FIR को रद्द करने के लिए एक याचिका दायर की थी।

रिया ने अपने FIR में सुशांत की बहन प्रियंका और दिल्ली के एक डॉक्टर पर बिना किसी परामर्श के मनोवैज्ञानिक दवाओं को अवैध रूप से सुशांत को देने का आरोप लगाया था। सुशांत की मृत्यु के एक हफ्ते पहले उनकी बहन ने उन्हें दवाइयों का सेवन करने के लिए प्रोत्साहित किया। रिया ने अभिनेता और उनकी बहन के बीच पाठ के whatsapp chat का हवाला देते हुए साक्ष्य के रूप में कहा कि उन्होंने दवा लेने से पहले डॉक्टर से सलाह नहीं ली थी।

अधिवक्ता माधव थोराट के माध्यम से दायर याचिका में, सुशांत की बहनों ने दावा किया है कि उनके द्वारा दिए गए दवाओं पर प्रतिबंध नहीं है और मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया (एमसीआई) द्वारा 11 अप्रैल को जारी किए गए दिशा-निर्देशों के अनुसार टेलीमेडिसिन के लिए “पहली परामर्श में ही मरीज को दवा निर्धारित करने की अनुमति देता है”।

Also read: Farm Bill Protest आंदोलनकारी किसानों ने दशहरा पर पीएम मोदी के पुतले जलाए

याचिका में कहा गया है कि एफआईआर के साथ-साथ शिकायत का एक्सपोज़ होना यह दर्शाता है कि वहां दिए गए बयान कोई संज्ञेय अपराध नहीं है। याचिका में आगे यह भी कहा गया “चक्रवर्ती ने इसलिये FIR दर्ज कराई क्योंकि, वह अपने खिलाफ हो रही जांच को विफल और सुशांत की आत्महत्या के लिए उसके परिवार के सदस्यों को दोषी ठहरना चाहती थी, क्योंकि उन्हें नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) द्वारा गिरफ्तार किए जाने का डर सता रहा था”।

रिया के वकील, सतीश मनेशिंदे ने याचिका पर जवाब दाखिल करते हुए लिखा “सुशांत उस वक्त पुरी तरह मुम्बई मे थे न की दिल्ली में। यह भी आश्चर्य की बात है कि डॉ तरुण कुमार ने हृदय रोग विशेषज्ञ होने के नाते यह सोचा कि वह एक ऐसे व्यक्ति को दवाइयां देने के लिए उपयुक्त है जिसे वह नहीं जानते थे और न ही उससे कभी पहले साइकोट्रोपिक पदार्थों के साथ मिले थे। इंडिया टुडे के अनुसार, रिया के शपथ पत्र में यह भी बताया गया है कि सुशांत और आरोपी डॉक्टर के बीच कभी भी कोई बातचीत नहीं हुई थी।

सुशांत 14 जून को अपने बांद्रा अपार्टमेंट में मृत पाए गए थे। मुंबई पुलिस ने अपनी प्रारंभिक जांच के बाद उनकी मौत को आत्महत्या करार दिया था। मामले की जांच अब CBI द्वारा की जा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *